सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं?

सॉफ्टवेयर के कितने प्रकार होते हैं?: सॉफ्टवेयर के प्रकार, हर दिन, हम विभिन्न प्रकार के Computer Software देखते हैं जो हमारे कार्यों में हमारी सहायता करते हैं और हमारी दक्षता में वृद्धि करते हैं. जब हम system को इंटरनेट पर serve करने के लिए उपयोग किए जाने वाले web browser पर स्विच करते हैं तो MS Windows से लेकर हमारे स्मार्टफोन पर calorie burn counter तक जो गेम हम अपने कंप्यूटर पर खेलते हैं, वे सभी Software के उदाहरण हैं. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Technology की इस दुनिया में, हम विभिन्न  software development trends में भी आते हैं जो हमारे business को बढ़ने में मदद करते हैं, हम इन सभी software से घिरे हुए हैं जो हमारे जीवन को आसान बनाने के लिए दृढ़ हैं.

परिभाषा के अनुसार, एक Software (SW या S/W के रूप में भी संक्षिप्त) data, programs, procedures, instructions, और documentation का एक collection है जो computer system पर विभिन्न predefined tasks को निष्पादित करता है. वे उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर के साथ बातचीत करने में सक्षम बनाते हैं.

Software Engineering और Computer Science के क्षेत्र में, सॉफ्टवेयर एक computer system और Program द्वारा संसाधित जानकारी के अलावा और कुछ नहीं है. Software में libraries, programs और संबंधित non-executable data, जैसे डिजिटल मीडिया और ऑनलाइन दस्तावेज़ शामिल हैं. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Computer Hardware और Software को एक-दूसरे की जरूरत होती है और इनमें से किसी एक को भी अपने दम पर इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है. Hardware और Software का समामेलन आधुनिक समय के कंप्यूटिंग सिस्टम को नियंत्रण और flexibility देता है. Software के बिना Computer किसी काम का नहीं होता. उदाहरण के लिए, अपने web browser सॉफ़्टवेयर की सहायता के बिना, आप इंटरनेट पर सर्फ करने में सक्षम नहीं होंगे.

आज के इस आर्टिकल में हम सॉफ्टवेयर के प्रकार को जानेंगे. इससे आपको इन्हें बेहतर रूप से समझने में सुविधा होगी. तो फिर चलिए शुरू करते हैं. 

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं? (सॉफ्टवेयर के प्रकार)

सॉफ्टवेयर के प्रकार

सॉफ्टवेयर 3 प्रकार के होते हैं. ये हमारे काम सैली को आसान बनाने और कम समय में करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. हम रोज उठते ही एक software का इस्तेमाल जरूर करते हैं, चाहे वह whatsapp ही क्यों न हो. अब मेरे ये लेख एक browser software के माध्यम से भी पढ़े जा रहे हैं. आइए अब तीन तरह के software के बारे में जानते हैं.

  • System Software
  • Application Software
  • Utility Software

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

एक system software उपयोगकर्ता और Hardware को एक दूसरे के साथ कार्य करने और बातचीत करने में सहायता करता है. मूल रूप से, यह computer hardware behavior को प्रबंधित करने के लिए एक सॉफ्टवेयर है ताकि उपयोगकर्ता द्वारा आवश्यक बुनियादी कार्यक्षमता प्रदान की जा सके.

सरल शब्दों में, हम कह सकते हैं कि System Software उपयोगकर्ता और हार्डवेयर के बीच एक intermediator या middle layer है. ये कंप्यूटर सॉफ्टवेयर दूसरे सॉफ्टवेयर के काम करने के लिए एक platform या environment को मंजूरी देते हैं. यही कारण है कि सिस्टम सॉफ्टवेयर पूरे computer system के प्रबंधन में बहुत महत्वपूर्ण है.

जब कोई भी नया कंप्यूटर खरीदा जाता है तो उसमें सबसे पहले सिस्टम सॉफ्टवेयर इंस्टाल होता है. जैसे Operating System (Windows 7, Windows 8, MAC, Unix, Android), Language Translator. यह हार्डवेयर और उपयोगकर्ता application के बीच एक परत की तरह काम करता है. सॉफ्टवेयर के प्रकार

जब आप पहली बार कंप्यूटर को चालू करते हैं, तो यह सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है जो इनिशियलाइज़ हो जाता है और सिस्टम की memory में लोड हो जाता है.  System software background में चलता है और अंतिम उपयोगकर्ताओं द्वारा उपयोग नहीं किया जाता है. यही कारण है कि सिस्टम सॉफ़्टवेयर को ‘low-level software’ के रूप में भी जाना जाता है.

कुछ common system software उदाहरण हैं:

i. Operating System

यह सिस्टम सॉफ्टवेयर का सबसे प्रमुख उदाहरण है. यह सॉफ्टवेयर का एक collection है जो resources को संभालता है और उन पर चलने वाले अन्य applications के लिए general services provide करता है. यद्यपि प्रत्येक operating system अलग है, उनमें से अधिकांश एक Graphical User Interface प्रदान करते हैं

जिसके माध्यम से एक उपयोगकर्ता फाइलों और फ़ोल्डरों का manage कर सकता है और अन्य कार्य कर सकता है. हर device, चाहे वह desktop, laptop या mobile phone हो, को बुनियादी कार्यक्षमता प्रदान करने के लिए एक operating system की आवश्यकता होती है.

नीचे दिए गए operating system के कुछ उदाहरण:

  • Android
  • CentOS
  • iOS
  • Linux
  • Mac OS
  • MS Windows

ii. Language Translators

ये mediator programs हैं जिन पर सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम high-level language code को सरल machine-level code में translate करने के लिए भरोसा करते हैं. कोड को सरल बनाने के अलावा, translators निम्नलिखित कार्य भी करते हैं:

  • Assign data storage
  • Enlist source code as well as program details
  • Offer diagnostic reports
  • रनटाइम के दौरान system errors को सुधारें
  • Programming Language Translators के उदाहरण हैं assemblers, compilers.

iii. Common Utility Programs

Utility software को कंप्यूटर सिस्टम के analyzing, optimizing, configuring और  maintaining में सहायता के लिए डिज़ाइन किया गया है. यह कंप्यूटर के बुनियादी infrastructure का समर्थन करता है. यह Softwar इस बात पर focus करता है कि एक OS कैसे कार्य करता है और फिर उसी के अनुसार यह system के कामकाज को smoothen करने के लिए अपने प्रक्षेपवक्र को तय करता है.

ये प्रोग्राम विशेष रूप से Computer Devices और Resources के लिए design किए गए हैं. इस श्रेणी के कार्यक्रमों के नाम Communication Tools और Disk Formatter हैं. सॉफ्टवेयर के प्रकार

ये प्रोग्राम ज्यादातर Computer Infrastructure के Operations पर उपयोग किए जाते हैं.  Virus Scanner Program भी एक Utility software का Example है.

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

Application Software, जिसे end-user programs या productivity programs के रूप में भी जाना जाता है, ऐसे software हैं जो उपयोगकर्ता को online research, jotting down notes, setting an alarm, designing graphics, keeping an account log, calculations करने या यहां तक ​​कि गेम खेलने जैसे कार्यों को पूरा करने में मदद करते हैं.

वे system software के ऊपर स्थित हैं. System Software के विपरीत, वे  end-user द्वारा उपयोग किए जाते हैं और उनकी functionality या tasks में specific होते हैं और वह कार्य करते हैं जिसे करने के लिए उन्हें डिज़ाइन किया गया है. सॉफ्टवेयर के प्रकार

वे हमारी जरूरतों को पूरा करते हैं. ये सभी Software Operating System द्वारा चलाए जाते हैं. आपके Computer के desktop पर दिखने वाले सभी सॉफ्टवेयर इसी Category में आते हैं. इन्हें apps भी कहा जाता है. ये केवल उपयोगकर्ता द्वारा अपने काम के लिए उपयोग किए जाते हैं. आपको इन software को स्थापित करने की आवश्यकता है. आइए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं.

i. Word Processors

उनका उपयोग Documents Creation के लिए किया जाता है. इस Category में आने वाले sw का इस्तेमाल ज्यादातर Office के काम के लिए किया जाता है. MS WORD इस Category का एक बेहतरीन उदाहरण है. जिससे हम आसानी से Edit, Format, Print जैसे कार्य को आसानी से कर सकते है.

इसके साथ ही यह इन documents के storing, formatting और printing में भी मदद करता है. Word Processors के कुछ उदाहरण हैं:

  • Abiword
  • Apple iWork- Pages
  • Corel WordPerfect
  • Google Docs
  • MS Word

ii. Database Software

इस सॉफ़्टवेयर का उपयोग database बनाने और manage करने के लिए किया जाता है. इसे Database Management System या DBMS के नाम से भी जाना जाता है. वे Data के organization में मदद करते हैं. DBMS के कुछ उदाहरण हैं:

  • Clipper
  • dBase
  • FileMaker
  • FoxPro
  • MS Access
  • MySQL

iii. Multimedia software

यह सॉफ्टवेयर है जो images, audio या video files को चलाने, बनाने या रिकॉर्ड करने में able है. इनका उपयोग video editing, animation, graphics और image editing के लिए किया जाता है. सॉफ्टवेयर के प्रकार Multimedia Software के कुछ उदाहरण हैं:

  • Adobe Photoshop
  • Inkscape
  • Media Monkey
  • Picasa
  • VLC Media Player
  • Windows Media Player
  • Windows Movie Maker

iv. Education and Reference Software

इस प्रकार के software विशेष रूप से किसी विशेष विषय पर सीखने की सुविधा के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. विभिन्न प्रकार के tutorial software हैं जो इस category के अंतर्गत आते हैं. उन्हें academic software भी कहा जाता है. कुछ उदाहरण निम्न हैं: सॉफ्टवेयर के प्रकार

  • Delta Drawing
  • GCompris
  • Jumpstart titles
  • KidPix
  • MindPlay
  • Tux Paint

v. Graphic software

जैसा कि नाम से पता चलता है, Graphics Software को graphic के साथ काम करने के लिए तैयार किया गया है क्योंकि यह उपयोगकर्ता को visual data या images को edit करने या changes करने में मदद करता है. इसमें picture editors और illustration software शामिल हैं. कुछ उदाहरण निम्न हैं:

  • Adobe Photoshop
  • Autodesk Maya
  • Blender
  • Carrara
  • CorelDRAW

vi. Web Browser

Internet access के लिए उपयोग किए जाने वाले Software को Web Browser कहा जाता है. World Wide Web से Files और Resources को access के लिए उपयोग किया जाता है। इनका उपयोग विभिन्न वेबसाइटों के वेब पेज खोलने के लिए किया जाता है. सॉफ्टवेयर के प्रकार

इन application का उपयोग Internet Browse करने के लिए किया जाता है. वे Web पर डेटा का पता लगाने और पुretrieving data across की सहायता करते हैं. Web Browser के कुछ उदाहरण हैं:

  • Google Chrome
  • Internet Explorer
  • Microsoft Edge
  • Mozilla Firefox

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

Utility Software को एक उपकरण का analyse और optimise करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. इन apps को आमतौर पर OS के साथ bundled किया जाता है. Overheating जैसी समस्या होने पर वे performance को track करते हैं और System को alert करते हैं.

Utility Software अक्सर थोड़ा technical होता है, इसलिए केवल वही लोग जिनका सही technical knowledge है, वे ही उनका सही उपयोग कर सकते हैं. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Utility Software एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो computer system के proper और smooth functioning को maintain रखने में मदद करता है. यह Operating System को कंप्यूटर सिस्टम के कामकाज को manage करने, organize करने, maintain रखने और optimize करने में सहायता करता है. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Utility Software कुछ कार्य करता है जैसे Virus का पता लगाना, installation और uninstallation करना, data backup, unwanted files को हटाना आदि. कुछ उदाहरण antivirus software, file management tools, compression tools, disk management tools आदि हैं. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Utility Software के प्रकार

  1. Antivirus
  2. File Management System
  3. Compression Tools
  4. Disk Management Tools
  5. Disk Cleanup Tool
  6. Disk Defragmenter
  7. Backup Utility

सॉफ्टवेयर कैसे बनाएं

एक Computer Programmer या कई computer programmers मिलकर Programming Language से प्रोग्राम लिखकर Software बनाते हैं. इन सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए आपको Programming Language के साथ-साथ algorithms, software engineering का विशेष ज्ञान होना चाहिए. सॉफ्टवेयर के प्रकार

Software बनाने के लिए coding की आवश्यकता होती है, चाहे वह Android Software हो या Computer Software, और यह कोड Binary Language में लिखा जाता है, Binary Language को ‘0,1’ कहा जाता है. इसे लिखने के लिए Java, C, C++, vb.net, asp.net आदि की जरूरत होती है. सॉफ्टवेयर के प्रकार

फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का दूसरा नाम क्या है?

फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का दूसरा नाम Freeware, Shareware है. आप इन फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को बिल्कुल फ्री में इस्तेमाल कर सकते हैं.

सॉफ्टवेयर में कितने भाग होते हैं?

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के तीन भाग होते हैं.
1) सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)
2) अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर (Application Software)
3) प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर (Utility Software)

सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाने के लिए प्रोग्राम को क्या जानना चाहिए?

सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाने के लिए प्रोग्रामिंग का ज्ञान होना जरूरी है. ऐसा इसलिए है क्योंकि सिस्टम सॉफ्टवेयर या कोई अन्य software सभी का आधार प्रोग्रामिंग है. ऐसे में अगर आपको थोड़ी सी भी Programming आती है या आप इसे समझते हैं, तो इससे आपके लिए कोडिंग लिखना आसान हो जाता है.

सॉफ्टवेयर क्या है?

Software एक सामान्य शब्द है जिसका उपयोग किसी डिवाइस पर चलने वाले application, script और program को refer करने के लिए किया जाता है.

आज आपने क्या सीखा?

मुझे उम्मीद है कि आपको सॉफ्टवेयर के प्रकार पर मेरा लेख पसंद आया होगा. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Software कैसे बनाये के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

हमें उम्मीद है कि आपका जो समस्या था या आपका जो प्रश्न था सॉफ्टवेयर के प्रकार समस्या है इस आर्टिकल को लेकर या आपको कोई परेशानी है अपने प्रश्नों को लेकर नीचे कमेंट जरूर करें हम आपको सही निर्देश देने की हर तरह से कोसिस करते रहेंगे. सॉफ्टवेयर के प्रकार

आज के इस आर्टिकल में हमने यह सिखा कि सॉफ्टवेयर के प्रकार आप हमें कुछ भी सुझाव दे सकते हैं और हम उस पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगे और जब आप हमें कोई भी सुझाव देंगे तब हमें बहुत खुशी होगी.

अगर आपको इस आर्टिकल से जानकारी अच्छे से मिल गई हो तो कृपया करके इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ना भूले. आप इस आर्टिकल को Facebook, Twitter, Instagram,‌ Whatsapp या अन्य सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते हैं.

Adarsh Pandeyhttps://techjugut.com
Hi! I'm Adarsh Pandey and I'm here to post some really cool stuff for you. If you have any ideas or any requests please get [email protected], you can also Follow me on instagram! 💗

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here