गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? गांधी जयंती भारत में हर साल 2 अक्टूबर को मनाई जाती है. इसमें कोई शक नहीं कि गांधी जी ने आजादी के लिए पूरी जिंदगी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी. उनका जीवन अपने आप में एक प्रेरणा है. आइए इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं कि गांधीजी और उनके जन्मदिन का क्या महत्व है, गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?, गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है? आदि.

महात्मा गांधी भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के नेता थे जिन्होंने अहिंसा के मार्ग पर चलकर ब्रिटिश शासन के खिलाफ आवाज उठाई थी. उन्होंने अहिंसक विरोध के अपने सिद्धांत के लिए अंतर्राष्ट्रीय ख्याति भी प्राप्त की है. इसमें कोई संदेह नहीं है कि महात्मा गांधी भारत और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनीतिक और आध्यात्मिक नेता थे.

क्या आप जानते हैं कि महात्मा गांधी को महात्मा की उपाधि रवींद्र नाथ टैगोर ने दी थी और गुरुदेव की उपाधि रवींद्रनाथ टैगोर को गांधीजी ने दी थी.

गांधी जयंती भारत की 3 राष्ट्रीय छुट्टियों में से एक है, लेकिन यह 2 अक्टूबर को ही क्यों मनाई जाती है और इसका क्या महत्व है? आइए इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

गांधी जयंती क्या है? – What is Gandhi Jayanti in Hindi

Gandhi Jayanti भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि इस दिन को मोहनदास करमचंद गांधी के जन्मदिन के रूप में जाना जाता है। हम इस दिन को न केवल भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अहिंसा दिवस के रूप में मनाते हैं, क्योंकि महात्मा गांधी अहिंसा के महान प्रचारक थे.

गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?
गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

आज ही के दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. वह व्यक्तिगत मोर्चे पर और साथ ही राजनीतिक प्रभाव में एक महान व्यक्ति थे.

गांधी का जन्मदिन हर साल ‘गांधी जयंती’ के रूप में मनाया जाता है. भारत के लोग उन्हें प्यार से ‘बापू’ और ‘राष्ट्रपिता’ कहकर बुलाते हैं. वह मानवता और शांति के प्रतीक हैं.

संयुक्त राष्ट्र ने भी 2 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में घोषित किया है. 15 जून 2007 के संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस “शिक्षा और जन जागरूकता के माध्यम से अहिंसा के संदेश का प्रसार” करने का एक अवसर है.

महात्मा गांधी कौन थे?

मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को वर्तमान गुजरात राज्य के पोरबंदर जिले में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम करमचंद गांधी और माता का नाम पुतलीबाई था. वह अपने तीन भाइयों में सबसे छोटा था. उनकी माता पुतलीबाई बहुत ही सौम्य और धार्मिक स्वभाव की थीं जिसने गांधीजी के व्यक्तित्व पर काफी प्रभाव डाला.

गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?
गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

मोहनदास करमचंद गांधी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा स्थानीय प्राथमिक और उच्च विद्यालयों में प्राप्त की. प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, वह कानूनी पेशे के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए इंग्लैंड चले गए. वे बचपन से ही सच्चे और ईमानदार थे. वह अपने चरित्र को लेकर बहुत सावधान रहते थे. खुद को एक वकील के रूप में सक्षम करते हुए, वे भारत आए और बॉम्बे हाई कोर्ट में अपना अभ्यास शुरू किया.

जब गांधी सात साल के थे, उनका परिवार काठियावाड़ राज्य के राजकोट जिले में बस गया, जहां उनके पिता करमचंद गांधी को दीवान के रूप में नियुक्त किया गया था। गांधीजी ने अपनी प्राथमिक और उच्च शिक्षा राजकोट में प्राप्त की। वह एक साधारण छात्र था और स्वभाव से बहुत शर्मीला और शर्मीला था.

बापू बहुत सीधे और ईमानदार व्यक्ति थे. वह अपने तप और निष्ठा के लिए जाने जाते थे. जिस छोटे से घर में गांधी जी का जन्म हुआ था, उसे अब “कीर्ति मंदिर” के नाम से जाना जाता है. उनकी मां पुतलीबाई एक पारंपरिक हिंदू महिला थीं, जो धार्मिक और संयमी थीं. उन्होंने अपना पूरा जीवन अपने घर और परिवार के लिए समर्पित कर दिया. गांधीजी की मां के व्यक्तित्व ने उनके व्यक्तित्व को बहुत प्रभावित किया.

गांधीजी भी अपने प्रारंभिक जीवन में राजा हरिश्चंद्र के नाटक से काफी प्रभावित थे. राजा हरिश्चंद्र की सत्यता और कष्टमय जीवन से बाहर निकलने की अद्भुत क्षमता ने गांधीजी को सफलतापूर्वक प्रभावित किया। उन्होंने राजा हरिश्चंद्र द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने का भी मन बना लिया.

आप पढ़ रहे हैं: गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? और गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है?


गांधीजी में न तो कोई विशेष प्रतिभा थी और न ही उनकी खेलों में रुचि थी. वह हमेशा अकेले रहना पसंद करते थे. उन्होंने अपने सिलेबस के अलावा कभी कोई किताब नहीं पढ़ी, लेकिन उन्होंने हमेशा अपने शिक्षकों का सम्मान किया और कभी किसी परीक्षा में नकल नहीं की.

गांधीजी अपने बड़े भाई लक्ष्मीदास के बहुत करीब थे. पिता की मृत्यु के बाद उनके बड़े भाई ने उनकी पढ़ाई में मदद की और उन्हें कानूनी अध्ययन के लिए इंग्लैंड भेज दिया. गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

महात्मा गांधी वह व्यक्ति थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए जीवन भर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी. उनका लक्ष्य अहिंसा, ईमानदार और स्वच्छ प्रथाओं के माध्यम से एक नए समाज का निर्माण करना था. वे कहते थे कि अहिंसा एक दर्शन, एक सिद्धांत और एक अनुभव है जिसके आधार पर एक बेहतर समाज का निर्माण संभव है. उनके अनुसार समाज में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति को उनके लिंग, धर्म, रंग या जाति के बावजूद समान दर्जा और अधिकार मिलना चाहिए.

30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या कर दी थी. गोडसे एक हिंदू महासभा के सदस्य थे. उन्होंने महात्मा गांधी पर पाकिस्तान का पक्ष लेने का आरोप लगाया और अहिंसा के सिद्धांत का विरोध किया.

आप पढ़ रहे हैं : गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? और गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है?

महात्मा गांधी का जीवन परिचय निबंध

नाममोहन दास करम चंद गाँधी
पिताकरम चंद गाँधी
मातापुतली बाई
जन्म2 अक्टूबर 1869
पत्नीकस्तूरबा गाँधी
बच्चेहरिलाल, मणिलाल, रामदास, देवदास
उपाधिराष्ट्रपिता (बापू)
सिधांतसत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य, शाखाहारी, सद्कर्म एवम विचार
मृत्यु30 जनवरी 1948
महात्मा गांधी निबंध हिंदी में

2 अक्टूबर गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

2 अक्टूबर गांधी जयंती इसलिए मनाया जाता है कि महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था.

उनका लक्ष्य अहिंसा, ईमानदार और स्वच्छ प्रथाओं के माध्यम से एक नए समाज का निर्माण करना था.

वे कहते थे कि अहिंसा एक दर्शन, एक सिद्धांत और एक अनुभव है जिसके आधार पर एक बेहतर समाज का निर्माण संभव है.

उनके अनुसार समाज में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति को उनके लिंग, धर्म, रंग या जाति के बावजूद समान दर्जा और अधिकार मिलना चाहिए.

"स्वतंत्रता अर्थहीन है यदि इसमें गलती करने की स्वतंत्रता शामिल नहीं है" - महात्मा गांधी

भारत और दुनिया भर में, महात्मा गांधी को सादगी और समर्पण के साथ एक साधारण जीवन जीने के लिए सबसे अच्छे आदर्श के रूप में सराहा जाता है. उनके सिद्धांतों को पूरी दुनिया ने अपनाया है. उनका जीवन अपने आप में एक प्रेरणा है. इसीलिए गांधी जयंती को उनके जन्मदिन यानि 2 अक्टूबर को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है.

आप पढ़ रहे हैं : गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? और गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है?

गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है?

भारत में, गांधी जयंती को राजघाट, नई दिल्ली में गांधी प्रतिमा के सामने प्रार्थना सभाओं और श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है.

महात्मा गांधी की समाधि पर भारत के राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री की उपस्थिति में प्रार्थना की जाती है, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया था.

उनका सबसे पसंदीदा और भक्ति गीत रघुपति राघव राजा राम उनकी याद में याद किया जाता है.

इस दिन को पूरे भारत में अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में भी आयोजित किया जाता है.

अधिकांश स्कूलों में गांधी जयंती एक दिन पहले मनाई जाती है. ये सभी उत्सव जीवन के सिद्धांतों को प्रभावित करते हैं जो गांधी जी ने निर्धारित किए थे: अनुशासन, शांति, ईमानदारी, अहिंसा और विश्वास.

भारत में कई जगहों पर लोग बापू के प्रसिद्ध गीत “रघुपति राघव राजा राम” गाते हैं, प्रार्थना करते हैं और स्मारक समारोहों के माध्यम से गांधीजी को श्रद्धांजलि देते हैं.

इस दिन कला, विज्ञान प्रदर्शनियों और निबंध प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. साथ ही अहिंसा और शांति को बढ़ावा देने के लिए पुरस्कार और सम्मान दिए जाते हैं.

गांधी जयंती का क्या महत्व है?

इस दुनिया को शांति और अहिंसा का पाठ पढ़ाने में महात्मा गांधी का योगदान समानांतर है. उनकी शिक्षा है कि सभी संघर्षों को अहिंसा से सुलझाया जाना चाहिए.

साथ ही इस दुनिया की हर छोटी-बड़ी समस्या को शांति और अहिंसा से सुलझाना चाहिए ताकि लोगों के रहने के लिए बेहतर माहौल बनाया जा सके.

संयुक्त राष्ट्र ने भी 2 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में घोषित किया है. 15 जून 2007 के संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस “शिक्षा और जन जागरूकता के माध्यम से अहिंसा के संदेश का प्रसार” करने का एक अवसर है. इस प्रस्ताव के तहत स्मरणोत्सव का भी आयोजन किया जाता है. यह संकल्प “अहिंसा के सिद्धांत की सार्वभौमिक प्रासंगिकता” की रक्षा करने और “शांति, सहिष्णुता, ज्ञान और अहिंसा पर आधारित संस्कृति” के निर्माण में योगदान देता है.

आप पढ़ रहे हैं: गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? और गांधी जयंती कैसे मनाया जाता है?

महात्मा गांधी का पूरा नाम क्या है?

गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था. महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख व्यक्ति थे. वे भारतीयों के लिए प्रेरणा स्रोत थे. महात्मा गांधी के विचारों का न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में अत्यधिक सम्मान और सम्मान किया जाता है.

महात्मा गांधी बच्चे कितने थे?

महात्मा गांधी के चार बेटे थे जिनका नाम इस प्रकार था : हीरालाल गांधी, देवदास गांधी, रामदास गांधी, मणिलाल गांधी. गांधीजी के परिवार की बात करें तो उनके पोते और उनके 154 वंशज आज 6 देशों में रह रहे हैं.

महात्मा गांधी का मृत्यु कब हुआ था

महात्मा गांधी की मृत्यु 30 January 1948, New Delhi में हुई.

महात्मा गांधी की बेटी का नाम क्या था?

महात्मा गांधी जी के चार बेटे थे लेकिन महात्मा गांधी जी और उनकी पत्नी ने एक बच्ची को गोद लिया था जिसका नाम लक्ष्मी था. तो यह कहा जा सकता है कि महात्मा गांधी की एक बेटी है जिसका नाम लक्ष्मी है.

महात्मा गांधी किस धर्म के थे?

धार्मिक मान्यता के अनुसार गांधीजी हिंदू धर्म में आते थे. इनकी पत्नी का नाम कस्तूरबा गांधी था. सार्वजनिक सेवा के लिए गांधी को 1915 में ‘केसर-ए-हिंद’ की उपाधि से भी नवाजा गया था.

महात्मा गांधी की दो पुस्तकों के नाम बताइए

महात्मा गांधी द्वारा लिखित अन्य पुस्तकों के नाम इस प्रकार हैं:
1. एक आत्मकथा – सत्य के साथ मेरे प्रयोग की कहानी
2. हिंद स्वराज या भारतीय गृह नियम
3. स्वास्थ्य की कुंजी

ये महात्मा गांधी के लेखन की संकलन हैं:
1. ए गांधी एंथोलॉजी – भाग 1 ( A Gandhi Anthology – Part I )
2. ए गांधी एंथोलॉजी – भाग II

आज आपने क्या सिखा ?

तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसे लगा और मैंने इस आर्टिकल में आपको गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है? मैं विस्तार से समझाया हुआ है| जिससे कि आप पूरी तरह से इस आर्टिकल को समझ पाए ।

हमें उम्मीद है कि आपका जो समस्या था या आपका जो प्रश्न था उसका उत्तर यानी कि उसका जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल गया होगा अगर आपको कोई भी समस्या है इस आर्टिकल को लेकर या आपको कोई परेशानी है अपने प्रश्नों को लेकर दो नीचे कमेंट जरूर करें हम आपको सही निर्देश देने की हर तरह से खूबसूरत करते रहेंगे. गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?

आज के इस आर्टिकल में हमने यह सिखा कि गांधी जयंती क्यों मनाई जाती है?. आप हमें कुछ भी सुझाव दे सकते हैं और हम उस पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगे और जब आप हमें कोई भी सुझाव देंगे तब हमें बहुत खुशी होगी।

अगर आपको इस आर्टिकल से जानकारी अच्छे से मिल गई हो तो कृपया करके इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ना भूले। आप इस आर्टिकल को Facebook, Twitter, Instagram,‌ Whatsapp या अन्य सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते हैं.

https://techjugut.com

Hi! I'm Adarsh Pandey and I'm here to post some really cool stuff for you. If you have any ideas or any requests please get [email protected], you can also Follow me on instagram! 💗

Leave a Comment